Teachers Day poem

शिक्षक दिवस पर विशेष:-
गुर से बड़ा गुरू, गुरू से बड़ा न कोय!
राम, रहिम, रहमान सब, गुरू के शिष्य ही होय!! – जी. एल.

शिक्षक ईश्वर के अवतार हैं!/ Teachers day poem


बुनते सपने हजार है,
सच्चे जिनके विचार हैं!
होते हैं ये खुदा सलिके,
शिक्षक ईश्वर के अवतार हैं!!-२
हर दिल को रोशन करें,
सबपे खुशियां वो अर्पण करें!
सबके सपनों के वास्ते,
करता निज सपनों का संहार है!
शिक्षक ईश्वर के अवतार हैं!!-२
वह समाज का दर्पण है,
मेरी श्रद्धा उन पर अर्पण है!
एक तुच्छ से भेंट के बदले ,
देते ज्ञान का भंडार है!
शिक्षक ईश्वर के अवतार हैं!!-२
जी. एल.

Weaving dreams is a thousand ,
Those whose views are true!
These are the Gods,
Teachers are incarnations of God !! – 2
Brighten every heart,
Offer happiness to everyone!
For everyone’s dreams,
It is the destiny of our dreams!
Teachers are incarnations of God !! – 2
He is a mirror of society,
My reverence is on him!
In exchange for an insignificant gift,
Giving is a storehouse of knowledge!
Teachers are incarnations of God !! – 2 G.L.

Read also >>>>> http://yadonkasawan.com/poem-on-nature

Read other websites for poem on teachers >>>> https://www.hindisoch.com/teachers-day-poem-in-hindi/

2,415 total views, 21 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published.